Sunday, June 16, 2013

Good Hindi sms or shayaries


जिंदगी तू आजमा ले जितना आजमाना हैं ..
मैं हारने वालों में से नहीं
बार बार निचे गिरा हूँ
बार बार उठा हूँ और चला हूँ
फिर चलूँगा, समेट के अपना विश्वास …
तुने बार बार गिराके किया है अट्टहास
और मैं भी बार बार गिर के मुस्कुराया हूँ


शीशा ही नही टूटा, अक्स भी टूटा है । पत्थर किसी अपने ने बेरहमी से मारा है॥ जो जख्म है सीने पे दुश्मन ने लगाये हैं। पर पीठ में ये खंजर अपनो ने उतारा है।